तिल मूंगफली की गजक । Til Peanut Gazak । Til Mungfali Patti for Makar Sankranti

तिल मूंगफली की गजक सर्दियों में अक्सर लोग खाते रहते हैं. सक्रांति के त्यौहार पर तो इसे काफी विशेष माना गया है. यह गजक इतनी करारी होती है कि खाते ही मन खुश हो जाता है. बाजार में यह बहुतायत में मिलती है. इसे घर पर भी आसानी से बना सकते है. मिठास से भरपूर इस तिल मूंगफली की गजक को एक बार बनाकर एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख लीजिए और 2 महीने तक जब मन करे तब निकालकर खाइए.

Til Peanut Gazak | तिल मूंगफली की गजक । Til Mungfali Patti for Makar Sankranti

निर्देश

बनाने की विधि

कढ़ाही गरम करने रखिए. इसमें 1 कप तिल डाल दीजिए और तिल को मध्यम आंच पर हल्के से फूलने और रंग बदलने तक लगातार चलाते हुए भून लीजिए. तिल 3 मिनिट में भुन जाते हैं. भुने हुए तिल को एक प्लेट में निकाल लीजिए ताकि ये जल्दी से ठंडे हो जाएं.

til moongfali pattiगुड़ की चाशनी बनाने के लिए, कढ़ाही में 1 छोटी चम्मच घी डाल दीजिए. घी के पिघलने पर इसमें 1 कप बारीक तोड़ा हुआ गुड़ डाल दीजिए. इसे धीमी आंच पर पकने दीजिए, धीरे-धीरे पिघलने दीजिए. बीच-बीच में गुड़ को चैक करते रहिए.

til moongfali patti 1 कप मूंगफली के दानों को दरदरा मोटा-मोटा पीसकर प्याले में रख लीजिए. तिल के ठंडे होने पर इसमें से लगभग 1/4 कप तिल साबुत अलग रखकर बाकी तिल दरदरे पीस लीजिए. बोर्ड पर घी लगाकर चिकना कर तैयार करके रख लीजिए.

til moongfali pattiगुड़ के पिघलने के बाद आंच तेज कर दीजिए. गुड़ को झाग आने तक थोड़ा सा और पका लीजिए. बाद में, गुड़ की चाशनी चैक कर लीजिए. इसके लिए एक प्याली में थोड़ा सा पानी लीजिए. इसमें गुड़ की चाशनी टपका लीजिए. चाशनी चैक करते समय आंच धीमी कर लीजिए ताकि गुड़ जले ना. चाशनी के ठंडा होने के बाद इसे चैक कीजिए. अगर यह खिंच रही है, तो चाशनी कम पकी है. इसे थोड़ा सा और पका लीजिए.

til moongfali pattiफिर से चाशनी को उसी तरीके से चैक कीजिए. गुड़ की चाशनी के ठंडा होने के बाद इसे हाथ से तोड़कर देखिए. अगर यह टूट रहा है, तो चाशनी बनकर तैयार है. गैस बंद कर दीजिए.

til moongfali pattiचाशनी में मूंगफली के दाने और तिल डाल दीजिए. सारी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए. गैस हल्की सी अॉन कर लीजिए ताकि यह ठंडा होकर तुरंत से जम ना जाए.

til moongfali pattiगजक का मिश्रण तैयार है, गैस बंद कर दीजिए. इसे चिकने किए हुए बोर्ड पर डालिए. साबुत तिल को ऊपर से छिड़क दीजिए.

til moongfali pattiहाथ और बेलन को थोड़ा सा घी लगाकर चिकना कर लीजिए. फिर, मिश्रण को हाथ से इकट्ठा करके एक जैसा कर लीजिए. यह गरम-गरम ही इकट्ठा करके सैट किया जाता है क्योंकि ठंडा होने पर यह जल्दी से जम जाता है.

til moongfali pattiथोड़े से तिल बोर्ड पर डालिए और मिश्रण के चारों ओर तिल लपेट लीजिए. इसे हाथ से दबाकर थोड़ा सा बढ़ा लीजिए. इसे 1/3 से 1/2 से.मी. की मोटाई रखते हुए बेलन से बेल लीजिए.

til moongfali pattiबेली हुई शीट को अपनी पसंद के अनुसार छोटे या बड़े टुकड़ों में काट लीजिए और ठंडा होने दीजिए. इसके बाद, इन टुकड़ों को बोर्ड से निकाल लीजिए.

til moongfali patti

परोसिए
सर्दियों की खास तिल मूंगफली की गजक बनकर तैयार है. यह बहुत ही क्रिस्पी है. इसे पूरी तरह से ठंडा होने के बाद एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख दीजिए और पूरे 1 से 2 महीने तक खाते रहिए.

सुझाव

  • चाशनी बनाते हुए थोड़ी सावधानी बरतें. अगर चाशनी थोड़ी कम पकी हो, तो गजक नरम बनेगी.
  • अगर चाशनी थोड़ी ज्यादा पक जाए, तो उसका स्वाद कढ़वा हो जाएगा और गजक का स्वाद भी अच्छा नही रहेगा. इसलिए चाशनी को चैक करते हुए बनाएं.
  • जब चाशनी की कन्सिस्टेन्सी चैक करें, तब आंच कम कर लें ताकि चाशनी जले ना.
  • हमने पिसे हुए मूंगफली के दाने और तिल चाशनी में डालते समय गैस बंद कर दी थी जिससे कि मिश्रण जले ना. जब ये थोड़ा सही से मिक्स हो जाए, तब हल्की सी गैस अॉन कर लीजिए ताकि मिश्रण ठंडा होकर जल्दी से सैट ना हो जाए.

तिल मूंगफली की गजक । Til Peanut Gazak । Til Mungfali Patti for Makar Sankranti
Author: 
Recipe type: Sweets
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • तिल- 1 कप (135 ग्राम)
  • मूंगफली के दाने- 1 कप (150 ग्राम)
  • गुड़- 1 कप (250 ग्राम) (क्रम्बल किया हुआ)
  • घी- 2 टेबल स्पून
Instructions
  1. कढ़ाही गरम करने रखिए. इसमें 1 कप तिल डाल दीजिए और तिल को मध्यम आंच पर हल्के से फूलने और रंग बदलने तक लगातार चलाते हुए भून लीजिए. तिल 3 मिनिट में भुन जाते हैं. भुने हुए तिल को एक प्लेट में निकाल लीजिए ताकि ये जल्दी से ठंडे हो जाएं.
  2. गुड़ की चाशनी बनाने के लिए, कढ़ाही में 1 छोटी चम्मच घी डाल दीजिए. घी के पिघलने पर इसमें 1 कप बारीक तोड़ा हुआ गुड़ डाल दीजिए. इसे धीमी आंच पर पकने दीजिए, धीरे-धीरे पिघलने दीजिए. बीच-बीच में गुड़ को चैक करते रहिए.
  3. कप मूंगफली के दानों को दरदरा मोटा-मोटा पीसकर प्याले में रख लीजिए. तिल के ठंडे होने पर इसमें से लगभग ¼ कप तिल साबुत अलग रखकर बाकी तिल दरदरे पीस लीजिए. बोर्ड पर घी लगाकर चिकना कर तैयार करके रख लीजिए.
  4. गुड़ के पिघलने के बाद आंच तेज कर दीजिए. गुड़ को झाग आने तक थोड़ा सा और पका लीजिए. बाद में, गुड़ की चाशनी चैक कर लीजिए. इसके लिए एक प्याली में थोड़ा सा पानी लीजिए. इसमें गुड़ की चाशनी टपका लीजिए. चाशनी चैक करते समय आंच धीमी कर लीजिए ताकि गुड़ जले ना. चाशनी के ठंडा होने के बाद इसे चैक कीजिए. अगर यह खिंच रही है, तो चाशनी कम पकी है. इसे थोड़ा सा और पका लीजिए.
  5. फिर से चाशनी को उसी तरीके से चैक कीजिए. गुड़ की चाशनी के ठंडा होने के बाद इसे हाथ से तोड़कर देखिए. अगर यह टूट रहा है, तो चाशनी बनकर तैयार है. गैस बंद कर दीजिए.
  6. चाशनी में मूंगफली के दाने और तिल डाल दीजिए. सारी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए. गैस हल्की सी अॉन कर लीजिए ताकि यह ठंडा होकर तुरंत से जम ना जाए.
  7. गजक का मिश्रण तैयार है, गैस बंद कर दीजिए. इसे चिकने किए हुए बोर्ड पर डालिए. साबुत तिल को ऊपर से छिड़क दीजिए.
  8. हाथ और बेलन को थोड़ा सा घी लगाकर चिकना कर लीजिए. फिर, मिश्रण को हाथ से इकट्ठा करके एक जैसा कर लीजिए. यह गरम-गरम ही इकट्ठा करके सैट किया जाता है क्योंकि ठंडा होने पर यह जल्दी से जम जाता है.
  9. थोड़े से तिल बोर्ड पर डालिए और मिश्रण के चारों ओर तिल लपेट लीजिए. इसे हाथ से दबाकर थोड़ा सा बढ़ा लीजिए. इसे ⅓ से ½ से.मी. की मोटाई रखते हुए बेलन से बेल लीजिए.
  10. बेली हुई शीट को अपनी पसंद के अनुसार छोटे या बड़े टुकड़ों में काट लीजिए और ठंडा होने दीजिए. इसके बाद, इन टुकड़ों को बोर्ड से निकाल लीजिए.
  11. सर्दियों की खास तिल मूंगफली की गजक बनकर तैयार है. यह बहुत ही क्रिस्पी है. इसे पूरी तरह से ठंडा होने के बाद एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख दीजिए और पूरे 1 से 2 महीने तक खाते रहिए.

 

भावनगरी गांठिया Bhavnagari Gathiya । How to make Bhavnagari Gathiya

बेसन, मसालों से बनने वाला बहुत ही उम्दा स्नैक्स- भावनगरी गांठिया, बच्चों से बुजुर्गों तक सभी को भाता है. यह क्रिस्पी और टेस्टी गांठियां दिन में किसी भी समय चाय, कॉफी के साथ या ऎसे ही खाली भी खा सकते हैं. लम्बे समय तक चलने वाली यह गुजराती नमकीन सभी बड़े चाव से खाते हैं. ये बेहद आसानी और जल्दी से बन जाती है. आइए इस मशहूर भावनागरी गांठिया को आप और हम मिलकर बनाएं.

Bhavnagari Gathiya | भावनगरी गांठिया । How to make Bhavnagari Gathiya

निर्देश

बनाने की विधि
पैन में ½ कप तेल डालकर गरम कर लीजिए. तेल गरम होने पर गैस बंद कर दीजिए. इसमें 1.25 छोटी चम्मच नमक और ½ छोटी चम्मच बेकिंग सोडा डालकर मिला लीजिए.

makhaniya gaathiyaएक बड़े प्याले में बेसन लीजिए. इसमें गरम तेल डाल दीजिए. हाथ से मसलकर ½ छोटी चम्मच अजवायन , 1 पिंच हींग और 1.5 छोटी चम्मच दरदरी कुटी काली मिर्च भी डाल दीजिए. सारी सामग्रियों को अच्छे से मिला लीजिए. इसमें थोड़ा-थोड़ा पानी डालकर बहुत ही नरम आटा गूंथ लीजिए. इतना आटा लगाने में ¾ कप पानी का उपयोग हुआ है और आटे को कुल 10 मिनिट फैंट-फैंटकर तैयार किया है.

makhaniya gaathiyaगांठिया तलने के लिए कढ़ाही में तेल गरम करने के लिए रख दीजिए. सेव मशीन लीजिए. इसमें मोटे सेव वाली जाली लगाकर सैट कर दीजिए. हाथ को थोड़े से तेल से चिकना कर लीजिए और थोड़ा सा गुथा बेसन लेकर इसे लंबाई में आकार देते हुए मशीन में डाल दीजिए. मशीन को बंद कर लीजिए.

makhaniya gaathiyaतेल गरम होने पर इसे चैक कर लीजिए. गांठिया तलने के लिए तेल मध्यम तेज गरम और आंच मध्यम चाहिए. गरम तेल में मशीन से गांठिया बनाकर डाल दीजिए. जब तेल में झाग कम हो जाएं, तब गांठिया को पलट दीजिए.

makhaniya gaathiyaसिके हुए गांठिया को कलछी पर कढ़ाही के किनारे थोड़ी देर रोक लीजिए और फिर, प्लेट में निकाल लीजिए. सारे गांठियां इसी तरह से बनाकर तैयार कर लीजिए.

makhaniya gaathiya

परोसिए
भावनगरी गाठिया तैयार हैं. एक बार के गांठियां तलने में 2 मिनिट लग जाते हैं. इनको पूरी तरह से ठंडा होने के बाद तोड़कर किसी भी एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख लीजिए और पूरे 2 से 3 महीने तक खाते रहें.

सुझाव

  • वैसे आटे को हाथ से गूंथा जाता है लेकिन आप इसके लिए चम्मच का यूज भी कर सकते हैं.
  • आटे को पकौड़े के घोल की तरह पतला ना करें और ना ही ज्यादा सख्त लगाएं. इसे चपाती के आटे से भी नरम तैयार करें.
  • गाठिया तलते समय ध्यान रखें कि तेल मध्यम तेज गरम हो और आंच भी मध्यम हो.

भावनगरी गांठिया Bhavnagari Gathiya । How to make Bhavnagari Gathiya
Author: 
Recipe type: Snacks
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • बेसन- 2 कप (250 ग्राम)
  • तेल- ½ कप (100 ग्राम) और तलने के लिए
  • बेकिंग सोडा- ½ छोटी चम्मच
  • काली मिर्च- 1.5 छोटी चम्मच (दरदरी कुटी हुई)
  • अजवायन- 1 छोटी चम्मच
  • नमक- 1.5 छोटी चम्मच या स्वादानुसार
  • हींग- 1 पिंच
Instructions
  1. पैन में ½ कप तेल डालकर गरम कर लीजिए. तेल गरम होने पर गैस बंद कर दीजिए. इसमें 1.25 छोटी चम्मच नमक और ½ छोटी चम्मच बेकिंग सोडा डालकर मिला लीजिए.
  2. एक बड़े प्याले में बेसन लीजिए. इसमें गरम तेल डाल दीजिए. हाथ से मसलकर ½ छोटी चम्मच अजवायन , 1 पिंच हींग और 1.5 छोटी चम्मच दरदरी कुटी काली मिर्च भी डाल दीजिए. सारी सामग्रियों को अच्छे से मिला लीजिए. इसमें थोड़ा-थोड़ा पानी डालकर बहुत ही नरम आटा गूंथ लीजिए. इतना आटा लगाने में ¾ कप पानी का उपयोग हुआ है और आटे को कुल 10 मिनिट फैंट-फैंटकर तैयार किया है.
  3. गांठिया तलने के लिए कढ़ाही में तेल गरम करने के लिए रख दीजिए. सेव मशीन लीजिए. इसमें मोटे सेव वाली जाली लगाकर सैट कर दीजिए. हाथ को थोड़े से तेल से चिकना कर लीजिए और थोड़ा सा गुथा बेसन लेकर इसे लंबाई में आकार देते हुए मशीन में डाल दीजिए. मशीन को बंद कर लीजिए.
  4. तेल गरम होने पर इसे चैक कर लीजिए. गांठिया तलने के लिए तेल मध्यम तेज गरम और आंच मध्यम चाहिए. गरम तेल में मशीन से गांठिया बनाकर डाल दीजिए. जब तेल में झाग कम हो जाएं, तब गांठिया को पलट दीजिए.
  5. सिके हुए गांठिया को कलछी पर कढ़ाही के किनारे थोड़ी देर रोक लीजिए और फिर, प्लेट में निकाल लीजिए. सारे गांठियां इसी तरह से बनाकर तैयार कर लीजिए.
  6. भावनगरी गाठिया तैयार हैं. एक बार के गांठियां तलने में 2 मिनिट लग जाते हैं. इनको पूरी तरह से ठंडा होने के बाद तोड़कर किसी भी एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख लीजिए और पूरे 2 से 3 महीने तक खाते रहें.

 

चावल गुड़ के लड्डू । Chawal ke Laddu। Rice Flour Laddu with Jaggery Recipe

सर्दियों में तिल और गुड़ से बने पकवान बहुत ही मज़ेदार लगते हैं. अगर इसमें चावल का ट्विस्ट दे दिया जाए, तो स्वाद और भी बढ़ जाएगा. ये लड्डू जरा से घी से आसानी से बन जाते हैं और घी कम पसंद करने वाले भी इसे खाने से ना नही कर पाते हैं. स्वाद में उम्दा होने के साथ साथ ये लड्डू पौष्टिक भी होते हैं. तो इस थरथराती सर्दियों के मौसम में ये स्वास्थ्यवर्धक चावल गुड़ के लड्डू बनाकर रख लीजिए और पूरे एक माह तक जब मन करे तब खाइए.

Chawal ke Laddu | चावल गुड़ के लड्डू । Rice Flour Laddu wtih Jaggery Recipe

निर्देश

बनाने की विधि
कढ़ाही में चावल का आटा डाल दीजिए. गैस अॉन कीजिए और चावल का रंग बदलने तक 10 मिनिट इसे मध्यम आंच पर भून लीजिए. गैस बंद कीजिए और भुने आटे को निकालकर एक अलग प्याले में रख लीजिए.

rice jaggery ladoo

कढ़ाही में तिल डाल दीजिए. तिल को फूलने और रंग बदलने तक 2 मिनिट लगातार चलाते हुए मध्यम आंच पर भून लीजिए. तिल भुन जाने पर इनको आटे में मिला दीजिए.

rice jaggery ladoo

गुड़ से चाशनी बनाने के लिए कढ़ाही में 1 कप क्रम्बल्ड गुड़ और आधा कप पानी डाल दीजिए. गैस अॉन कीजिए. गुड़ को पानी में घुलने के 1 मिनिट बाद तक पका लीजिए. इसे 2 मिनिट पकाया गया है.

rice jaggery ladoo

चाशनी चैक करने के लिए, कुछ बूंदे प्याली में डालिए और ठंडा होने पर उंगली और अंगूठे के बीच में चिपकाकर देखिए, इसमें चिपचिपापन होना चाहिए. चाशनी तैयार है. गैस बंद कर दीजिए.

rice jaggery ladoo

तिल आटे में 1 कप कद्दूकस किया हुआ नारियल और ½ छोटी चम्मच इलायची पाउडर डाल दीजिए. सारी चीजों को अच्छे से मिलने तक मिक्स कीजिए.

rice jaggery ladoo

गुड़ के सीरप को इसमें छानकर डालिए. इसे मिला लीजिए. साथ ही 2 टेबल स्पून घी भी डालकर अच्छी तरह मिक्स कर लीजिए. लड्डू बनाने के लिए मिश्रण तैयार है.

rice jaggery ladooहाथ को थोड़े से घी से चिकना कर लीजिए. थोड़ा सा मिश्रण लीजिए और गोल करके बाइन्ड करते हुए लड्डू बना लीजिए. सारे लड्डू इसी तरह बनाकर तैयार कर लीजिए.

rice jaggery ladoo

परोसिए
8. सर्दियों के खास चावल गुड़ के लड्डू तैयार हैं. इतने मिश्रण से 12 लड्डू बनकर तैयार हो जाते हैं. इनको पूरी तरह ठंडा होने के बाद किसी भी एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख लीजिए और पूरे 1 महीने तक खाते रहिए.

सुझाव

  • चावल का आटा बाजार में आसानी से मिल जाता है. आप इसे घर पर भी बना सकते हैं. चावल का आटा बनाने की विधि हमारे चैनल और वेबसाइट पर देख सकते हैं.
  • अगर आपके गुड़ में गंदगी लगे, तो आप इसे छान सकते हैं.
  • तिल, नारियल और गुड़ आप अपने स्वाद के अनुसार कम या ज्यादा ले सकते हैं.

चावल गुड़ के लड्डू । Chawal ke Laddu। Rice Flour Laddu with Jaggery Recipe
Author: 
Recipe type: Sweets
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • चावल का आटा- 1.25 कप (200 ग्राम)
  • गुड़- 1 कप (200 ग्राम) (क्रम्बल किया हुआ)
  • तिल- 1 कप से कम (100 ग्राम)
  • सूखा नारियल- 1 कप (50 ग्राम)
  • घी- 2 टेबल स्पून
  • इलायची पाउडर- ½ छोटी चम्मच
Instructions
  1. कढ़ाही में चावल का आटा डाल दीजिए. गैस अॉन कीजिए और चावल का रंग बदलने तक 10 मिनिट इसे मध्यम आंच पर भून लीजिए. गैस बंद कीजिए और भुने आटे को निकालकर एक अलग प्याले में रख लीजिए.
  2. कढ़ाही में तिल डाल दीझिए. तिल को फूलने और रंग बदलने तक 2 मिनिट लगातार चलाते हुए मध्यम आंच पर भून लीजिए. तिल भुन जाने पर इनको आटे में मिला दीजिए.
  3. गुड़ से चाशनी बनाने के लिए कढ़ाही में 1 कप क्रम्बल्ड गुड़ और आधा कप पानी डाल दीजिए. गैस अॉन कीजिए. गुड़ को पानी में घुलने के 1 मिनिट बाद तक पका लीजिए. इसे 2 मिनिट पकाया गया है.
  4. चाशनी चैक करने के लिए, कुछ बूंदे प्याली में डालिए और ठंडा होने पर उंगली और अंगूठे के बीच में चिपकाकर देखिए, इसमें चिपचिपापन होना चाहिए. चाशनी तैयार है. गैस बंद कर दीजिए.
  5. तिल आटे में 1 कप कद्दूकस किया हुआ नारियल और ½ छोटी चम्मच इलायची पाउडर डाल दीजिए. सारी चीजों को अच्छे से मिलने तक मिक्स कीजिए.
  6. गुड़ के सीरप को इसमें छानकर डालिए. इसे मिला लीजिए. साथ ही 2 टेबल स्पून घी भी डालकर अच्छी तरह मिक्स कर लीजिए. लड्डू बनाने के लिए मिश्रण तैयार है.
  7. हाथ को थोड़े से घी से चिकना कर लीजिए. थोड़ा सा मिश्रण लीजिए और गोल करके बाइन्ड करते हुए लड्डू बना लीजिए. सारे लड्डू इसी तरह बनाकर तैयार कर लीजिए.
  8. सर्दियों के खास चावल गुड़ के लड्डू तैयार हैं. इतने मिश्रण से 12 लड्डू बनकर तैयार हो जाते हैं. इनको पूरी तरह ठंडा होने के बाद किसी भी एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख लीजिए और पूरे 1 महीने तक खाते रहिए.

 

मट्ठे – Mattha – Sweet Matthe Recipe

अक्सर शादियों में शगुन के साथ मीठे मट्ठे देने की पारंपरिक रीति है. चाशनी की परत चढ़े मट्ठे की त्यौहारों और पूजा के समय भी खास बनाए जाते है. आज हम उन्हीं मट्ठों की रैसिपी लेकर आए हैं. लगभग छोटी-छोटी मीठी मठरियों की भांति ही तैयार होने वाले ये मट्ठे, बहुत ही ज़ायकेदार और मिठास से भरपूर होते हैं. किसी भी विशेष उत्सव या पूजा के दिन आप भी इन मट्ठों को खुद बनाकर देखिए, सब आश्चर्यचकित रह जाएंगे. आइए हम और आप मिलकर बनाना शुरू करते हैं मीठे मट्ठे.

Mattha – Sweet Matthe Recipe

निर्देश

बनाने के लिए

पहले, मटठे बनाने के लिए, आटा गूंथ लीजिए. इसके लिए, एक बड़े प्याले में मैदा लीजिए और इसमें घी (मोयन) डाल दीजिए और अच्छे से मिक्स कर लीजिए.

Sweet mathaमैदे में थोड़ा-थोड़ा पानी डालते हुए मठरी बनाने जैसा सख्त आटा गूंथ लीजिए. इतनी मात्रा का आटा गूंथने में ¾ कप से भी कम पानी लगता है. गुंथे हुए मैदे को ढक दीजिए और आधे घंटे तक सैट होने रख दीजिए.

sweet mathaबाद में, मैदे को फिर से थोड़ी देर मसल लीजिए. मैदे से चार लोइयां बना लीजिए. दूसरी तरफ, कड़ाई में घी दालकर गरम होने रख दीजिए.

sweet mathaएक लोई लीजिए और रोल करके चिकना पेड़ा बना लीजिए. इसे हल्का सा दबाकर चकले पर रखिए और हर ओर से एक समान 8 से 10 इंच व्यास का मट्ठा बेल लीजिए. मट्ठे को मठरी की तरह ही हल्का मोटा रखिए.

sweet mathaअब, मट्ठे में कांटे से गोचे या छेद लगा दीजिए जिससे यह तलने के बाद करारा हो. मट्ठे को पलटकर इस ओर भी गोचे लगा दीजिए.

sweet mathaघी को चैक करने के लिए, इसमें छोटी सी लोई का टुकड़ा डाल दीजिए, अगर इस पर बुलबुले बनते हैं, तो घी मध्यम गरम है और मट्ठे तलने के लिए उपयुक्त भी. कड़ाई में मट्ठा डाल दीजिए.

sweet mathaमट्ठे को दोनों तरफ से गोल्डन ब्राउन होने तक मध्यम-धीमी आंच पर फ्राय कीजिए.

sweet mathaइसके बाद, कलछी से मट्ठे को उठाकर कड़ाई के किनारे पर तिरछा रखिए ताकि इसमें से अतिरिक्त घी कड़ाई में ही वापस चला जाए. नैपकिन पेपर से ढकी प्लेट में मट्ठा निकाल लीजिए और इसी तरह बाकी मट्ठे भी तैयार कर लीजिए. एक मट्ठे को तलने में 15 मिनिट लगते हैं.

sweet mathaचाशनी के लिए, एक बर्तन में चीनी और ½ कप से कम पानी लीजिए और इसे गैस जलाकर रख दीजिए. पानी में चीनी के पूरी तरह घुलने तक, इसे उबाल लीजिए. इसके बाद, चाशनी को 4 से 5 मिनिट और उबलने दीजिए.

sweet mathaचाशनी चैक करने के लिए, किसी प्याले में 1 से 2 बूंदे लीजिए. जैसे ही ये ठंडी हो जाए, वैसे ही उंगली और अंगूठे के पोरों पर चिपकाइए और दोनों को अलग करते समय देखिए. अगर 2 तार बनते दिखें, तो चाशनी तैयार है. गैस बंद कर दीजिए.

sweet mathaचाशनी में मट्ठा डालकर इसकी परत चढ़ा लीजिए. मट्ठे को हल्का सा तिरछा रखिए ताकि अतिरिक्त चाशनी निकल जाए. इसके बाद, मट्ठे को एक प्लेट में निकाल लीजिए, मट्ठे एकदम तैयार हैं.

sweet matha

परोसिए

इन खस्ता और स्वाद से भरे मीठे मट्ठों को ऎसे ही सर्व कीजिए. जब ये अच्छे से ठंडे हो जाएं, तब आप इन्हें किसी डिब्बे में स्टोर कर सकते हैं और 1 महीने तक मज़े से खा सकते हैं.

sweet matha

मट्ठे - Sweet Matthe Recipe sweet-matha
Author: 
Recipe type: Sweets
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • मैदा- 3 कप (400 ग्राम)
  • घी- ½ कप से कम (100 ग्राम) (मोयन)
  • चीनी- 1 कप (250 ग्राम)
  • घी- मट्ठों को फ्राय करने के लिए
Instructions
  1. पहले, मटठे बनाने के लिए, आटा गूंथ लीजिए. इसके लिए, एक बड़े प्याले में मैदा लीजिए और इसमें घी (मोयन) डाल दीजिए और अच्छे से मिक्स कर लीजिए.
  2. मैदे में थोड़ा-थोड़ा पानी डालते हुए मठरी बनाने जैसा सख्त आटा गूंथ लीजिए. इतनी मात्रा का आटा गूंथने में ¾ कप से भी कम पानी लगता है. गुंथे हुए मैदे को ढक दीजिए और आधे घंटे तक सैट होने रख दीजिए.
  3. बाद में, मैदे को फिर से थोड़ी देर मसल लीजिए. मैदे से चार लोइयां बना लीजिए. दूसरी तरफ, कड़ाई में घी दालकर गरम होने रख दीजिए.
  4. एक लोई लीजिए और रोल करके चिकना पेड़ा बना लीजिए. इसे हल्का सा दबाकर चकले पर रखिए और हर ओर से एक समान 8 से 10 इंच व्यास का मट्ठा बेल लीजिए. मट्ठे को मठरी की तरह ही हल्का मोटा रखिए.
  5. अब, मट्ठे में कांटे से गोचे या छेद लगा दीजिए जिससे यह तलने के बाद करारा हो. मट्ठे को पलटकर इस ओर भी गोचे लगा दीजिए.
  6. घी को चैक करने के लिए, इसमें छोटी सी लोई का टुकड़ा डाल दीजिए, अगर इस पर बुलबुले बनते हैं, तो घी मध्यम गरम है और मट्ठे तलने के लिए उपयुक्त भी. कड़ाई में मट्ठा डाल दीजिए.
  7. मट्ठे को दोनों तरफ से गोल्डन ब्राउन होने तक मध्यम-धीमी आंच पर फ्राय कीजिए.
  8. इसके बाद, कलछी से मट्ठे को उठाकर कड़ाई के किनारे पर तिरछा रखिए ताकि इसमें से अतिरिक्त घी कड़ाई में ही वापस चला जाए. नैपकिन पेपर से ढकी प्लेट में मट्ठा निकाल लीजिए और इसी तरह बाकी मट्ठे भी तैयार कर लीजिए. एक मट्ठे को तलने में 15 मिनिट लगते हैं.
  9. चाशनी के लिए, एक बर्तन में चीनी और ½ कप से कम पानी लीजिए और इसे गैस जलाकर रख दीजिए. पानी में चीनी के पूरी तरह घुलने तक, इसे उबाल लीजिए. इसके बाद, चाशनी को 4 से 5 मिनिट और उबलने दीजिए.
  10. चाशनी चैक करने के लिए, किसी प्याले में 1 से 2 बूंदे लीजिए. जैसे ही ये ठंडी हो जाए, वैसे ही उंगली और अंगूठे के पोरों पर चिपकाइए और दोनों को अलग करते समय देखिए. अगर 2 तार बनते दिखें, तो चाशनी तैयार है. गैस बंद कर दीजिए.
  11. चाशनी में मट्ठा डालकर इसकी परत चढ़ा लीजिए. मट्ठे को हल्का सा तिरछा रखिए ताकि अतिरिक्त चाशनी निकल जाए. इसके बाद, मट्ठे को एक प्लेट में निकाल लीजिए, मट्ठे एकदम तैयार हैं.
  12. इन खस्ता और स्वाद से भरे मीठे मट्ठों को ऎसे ही सर्व कीजिए. जब ये अच्छे से ठंडे हो जाएं, तब आप इन्हें किसी डिब्बे में स्टोर कर सकते हैं और 1 महीने तक मज़े से खा सकते हैं.

 

मूंग दाल हलवा मावा के बिना – मूंग दाल हलवा मावा के बिना – Moong Dal Halwa Recipe | Instant Moong Dal Sheera | Easy Moong Dal Halva using condensed milk

शादी, पार्टियों में आप अक्सर मूंग की दाल हलवा खाते रहते होंगे. ज्यादातर लोग इस हलवे को मावा के साथ बनाते हैं. लेकिन आज हम इसे मावा के बिना तैयार करने जा रहे हैं. मूंग दाल हलवा मावा के बिना कन्डेन्सड मिल्क से बनाया जाता है. इस हलवे का स्वाद मावा से बने हलवे से भी उम्दा होता है. अगर आपको मूंग की दाल का हलवा खाने का मन करे और मावा उपलब्ध न हो तो हमारी यह नई पेशकश मूंग दाल हलवा मावा के बिना जरूर आजमाएं. आइए जानते हैं अनोखे स्वाद से भरे  मूंग दाल हलवा मावा के बिना की रैसिपी.

Moong Dal Halwa Recipe | Instant Moong Dal Sheera | Easy Moong Dal Halva using condensed milk

निर्देश

तैयारी के लिए

मूंग की दाल को अच्छे से धो लीजिए और 2 घंटे के लिए पानी में भिगोकर रख दीजिए. 2 घंटे बाद, भीगी हुई दाल में से अतिरिक्त पानी निकाल लीजिए.

moong dal halwa condensed milkबादाम और काजू को छोटे-छोटे टुकड़ों व पिस्ता को बारीक काट लीजिए.

moong dal halwa condensed milkइलाइची को थोड़ा सा कूटकर इसके छिलके हटा दीजिए और फिर दानों को कूट कर दरदरा पाउडर तैयार कर लीजिए.

moong dal halwa condensed milk

बनाने की विधि

दाल का हलवा बनाने के लिए, दाल को मिक्सर जार में डाल कर बिना पानी के हल्का दरदरा पीस लीजिए. दाल को ज्यादा बारीक मत पीसिए.

moong dal halwa condensed milkदाल को भूनने के लिए, नॉन स्टिक कड़ाई को गैस जलाकर गरम होने रख दीजिए. इससे दाल आसानी से व जल्दी भुनती है और कड़ाई में चिपकती भी नहीं है. अब, इसमें 1/2 कप से कम घी डाल दीजिए.

moong dal halwa condensed milkघी के पिघलने पर कड़ाई में पिसी हुई दाल डाल दीजिए. दाल को गोल्डन ब्राउन होने तक लगातार चलाते हुए मध्यम आंच पर भून लीजिए. (कलछी को कड़ाई के तले तक ले जाते हुए दाल को कड़ाई से निकालते हुए हलवे को भूनिये.)

moong dal halwa condensed milkजब दाल गोल्डन ब्राउन हो जाए, अच्छी खुशबू आने लगे और दाल से घी अलग होने लगे, तब गैस को धीमा कर दीजिए. इसके बाद, इसमें 1.5 कप पानी और कन्डेन्सड मिल्क डाल दीजिए.

moong dal halwa condensed milkदाल के अच्छे से फूलने के लिए, हलवे को धीमी आंच पर पकने दीजिए और हलवे को बीच-बीच में कलछी से चलाते रहिये.

moong dal halwa condensed milkजब दाल फूल जाए, तब इसमें आधे से ज्यादा कटे हुए काजू- बादाम और इलाइची पाउडर डाल दीजिए. सभी सामग्री को हलवे में अच्छे से मिक्स कर दीजिए और इसे लगातार चलाते हुए थोड़ी देर भून लीजिए.

moong dal halwa condensed milkअब. हलवा पककर गाढ़ा गो गया है. इसमें थोड़ा सा घी डाल कर अच्छे से मिला लीजिए. ऊपर से घी डालने पर हलवे का स्वाद और भी बढ़ जाता है. हलवा तैयार है, इसे एक प्लेट में निकाल लीजिए और गैस बंद कर दीजिए.

moong dal halwa condensed milk

परोसिए

हलवे के ऊपर थोड़ा और घी डाल लीजिए. हलवे के ऊपर तैरता घी बेहतरीन लगता है. हलवे को कटे हुए बादाम और काजू से सजाइए. स्वाद से भरपूर मूंग की दाल का हलवा मावा के बिना परोसने के लिए तैयार है. इसे भोजन के बाद या जब भी मीठा खाने का मन करे तब गरमागरम खाइए. इस हलवा को फ्रिज में स्टोर कर लीजिए और 3 से 4 दिनों तक मज़े से खाइए.

moong dal halwa condensed milk

सुझाव

  • आप हलवे में रंग लाने के लिए, इसमें थोड़ा सा पीला रंग या केसर भी डाल सकते हैं.

मूंग दाल हलवा - Easy Moong Dal Halva using condensed milk moong-dal-halwa-condensed-milk
Author: 
Recipe type: Sweets
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • मूंग दाल -1/2 कप (100 ग्राम) (भीगी हुई)
  • कन्डेन्सड मिल्क - 1 कप (250 ग्राम)
  • घी -1/2 कप (100 ग्राम)
  • काजू - 10 से 12
  • बादाम - 10 से 12
  • पिस्ता - 1 टेबल स्पून
  • इलाइची - 6 से 7
Instructions
  1. मूंग की दाल को अच्छे से धो लीजिए और 2 घंटे के लिए पानी में भिगोकर रख दीजिए. 2 घंटे बाद, भीगी हुई दाल में से अतिरिक्त पानी निकाल लीजिए.
  2. बादाम और काजू को छोटे-छोटे टुकड़ों व पिस्ता को बारीक काट लीजिए.
  3. इलाइची को थोड़ा सा कूटकर इसके छिलके हटा दीजिए और फिर दानों को कूट कर दरदरा पाउडर तैयार कर लीजिए.
  4. दाल का हलवा बनाने के लिए, दाल को मिक्सर जार में डाल कर बिना पानी के हल्का दरदरा पीस लीजिए. दाल को ज्यादा बारीक मत पीसिए.
  5. दाल को भूनने के लिए, नॉन स्टिक कड़ाई को गैस जलाकर गरम होने रख दीजिए. इससे दाल आसानी से व जल्दी भुनती है और कड़ाई में चिपकती भी नहीं है. अब, इसमें ½ कप से कम घी डाल दीजिए.
  6. घी के पिघलने पर कड़ाई में पिसी हुई दाल डाल दीजिए. दाल को गोल्डन ब्राउन होने तक लगातार चलाते हुए मध्यम आंच पर भून लीजिए. (कलछी को कड़ाई के तले तक ले जाते हुए दाल को कड़ाई से निकालते हुए हलवे को भूनिये.)
  7. जब दाल गोल्डन ब्राउन हो जाए, अच्छी खुशबू आने लगे और दाल से घी अलग होने लगे, तब गैस को धीमा कर दीजिए. इसके बाद, इसमें 1.5 कप पानी और कन्डेन्सड मिल्क डाल दीजिए.
  8. दाल के अच्छे से फूलने के लिए, हलवे को धीमी आंच पर पकने दीजिए और हलवे को बीच-बीच में कलछी से चलाते रहिये.
  9. जब दाल फूल जाए, तब इसमें आधे से ज्यादा कटे हुए काजू- बादाम और इलाइची पाउडर डाल दीजिए. सभी सामग्री को हलवे में अच्छे से मिक्स कर दीजिए और इसे लगातार चलाते हुए थोड़ी देर भून लीजिए.
  10. अब. हलवा पककर गाढ़ा गो गया है. इसमें थोड़ा सा घी डाल कर अच्छे से मिला लीजिए. ऊपर से घी डालने पर हलवे का स्वाद और भी बढ़ जाता है. हलवा तैयार है, इसे एक प्लेट में निकाल लीजिए और गैस बंद कर दीजिए.
  11. हलवे के ऊपर थोड़ा और घी डाल लीजिए. हलवे के ऊपर तैरता घी बेहतरीन लगता है. हलवे को कटे हुए बादाम और काजू से सजाइए. स्वाद से भरपूर मूंग की दाल का हलवा मावा के बिना परोसने के लिए तैयार है. इसे भोजन के बाद या जब भी मीठा खाने का मन करे तब गरमागरम खाइए. इस हलवा को फ्रिज में स्टोर कर लीजिए और 3 से 4 दिनों तक मज़े से खाइए.

 

Sweet Bread Mawa Roll – चमचम जैसे मीठे ब्रेड रॉल – Bread Chum Chum

चमचम को छैना से बनाया जाता है और ये बंगाल की पारंपरिक मिठाइयों में स‌े एक है. जो खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होती है. लेकिन आज हम आपके लिए ब्रेड से बनी चमचम की विधि लेकर आए हैं. साथ ही इसमें भरी जाने वाली स्टफिंग इसके स्वाद को बढ़ा देती है. ब्रेड चमचम को घर पर आसानी स‌े बना कर तैयार किया जा स‌कता है. इसे बना कर फ्रिज में रख कर ठंडा करके, ठंडे और मीठे स्वाद का मजा लीजिए.

Sweet Bread Mawa Roll – चमचम जैसे मीठे ब्रेड रॉल – Bread Chum Chum

विधि

तैयारी के लिए

ब्रेड के किनारे का गहरे रंग का हिस्सा चाकू की सहायता से काटकर अलग कर लीजिए. सारे ब्रेड के किनारे काट कर हटा लीजिए.

bread chumchumकाजू को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट कर तैयार कर लीजिए, बादाम को भी छोटा-छोटा काट लीजिए. इलायची को छीलकर इसके बीजों का पाउडर बना लीजिए.

bread chumchum

बनाने की विधि

चाशनी के लिए एक बर्तन ले लीजिए. इसमें चीनी और आधा कप पानी डालकर गैस पर रख दीजिए. चाशनी को चीनी घुलने तक पकने दीजिए. चाशनी को बीच-बीच में चमचे से चलाते रहिए. चाशनी को दो तरीकों से चैक किया जा सकता है. पहले तरीके से चाशनी चैक करने के लिए चमचे से चाशनी को गिराते हुए देखिए कि चाशनी में तार बन रहा है या नहीं. जब आखिरी बूंद चाशनी की चमचे से गिरती है तो वो लम्बे तार को बनाते हुए गिरती है, चाशनी बनकर तैयार है.

bread chumchumअन्य तरीके से चैक करने के लिए चाशनी को किसी प्याली में निकालिए. इसके ठंडी होने के बाद, उंगली और अंगूठे के बीच चिपकाइए, चाशनी में 1 तार बन रहा हो तो, चाशनी बनकर तैयार है, गैस बन्द कर दीजिए. बर्तन को गैस पर से उतार कर जाली स्टैंड पर रख दीजिए.

bread chumchumस्टफिंग के लिए पैन को गैस पर रखकर गरम कीजिए. इसमें क्रम्बल किया हुआ मावा डाल दीजिए और लगातार चलाते हुए मावा के हल्का सा रंग बदलने और अच्छी खुश्बू आने तक इसे भून लीजिए. मावा भूनने के बाद इसमें 1/2 पिंच फूड कलर डालकर अच्छे से मिक्स कर दीजिए और मावा को प्याले में निकाल लीजिए.

bread chumchumमावा के हल्का सा ठंडा होने पर इसमें कटे हुए कजू-बादाम और इलायची पाउडर डाल कर अच्छे से मिक्स कर दीजिए. मावा के हल्का सा गुनगुना गरम रहने पर इसमें पाउडर चीनी डालकर मिक्स कर दीजिए. स्टफिंग बनकर के तैयार है. स्टफिंग को आठ भागों में छोटे-छोटे गोले बना कर तैयार कर लीजिए.

bread chumchumएक प्लेट मे 1/2 कप दूध ले लीजिए और एक ब्रेड को दूध में डुबाकर निकाल लीजिए, दूध में भीगी हुई ब्रेड को हथेली पर रखिए. दूसरी हथेली से दबाकर ब्रेड का दूध निकाल दीजिए. इसके ऊपर स्टफिंग रख दीजिए और ब्रेड को मोड़ दीजिए और चारों ओर से अच्छी तरह दबाकर चमचम का आकार देकर स्टफिंग को बन्द कर दीजिए. इस तरह सारी स्टफिंग एक-एक ब्रेड में डालकर तैयार करके चमचम बनाकर प्लेट में लगाकर रख लीजिए.

bread chumchumचमचम के लिए जो चाशनी बनाई है, अगर वो ठंडी होकर जम गई है तो उसे एक बार फिर से गरम करके ले लीजिए.

bread chumchumचमचम तलने के लिए कढ़ाही में तेल डालकर गरम कीजिए, तेल के अच्छा गरम होने पर तैयार रोल उठाइए और गरम तेल में डालिए. रोल को कलछी से पलट-पलट कर गोल्डन ब्राउन होने तक तलिए और आग को मीडियम-हाई ही रखिए.

bread chumchumतले हुए गोले को कलछी पर रखकर कुछ देर कढ़ाही के ऊपर रखिए ताकि अतिरिक्त तेल कढ़ाही में वापस चला जाए. गोले को प्लेट में निकाल लीजिए. इन गरम-गरम गोलों को चाशनी में डाल दीजिए, और थोडी देर बाद प्लेट में निकाल लीजिए. इसी तरह सारे गोले तल कर चाशनी में डाल कर थोडी़ देर बाद निकाल दीजिए.

bread chumchumचमचम को नारियल के पाउडर में लपेटकर प्लेट में रख दीजिए और सारी चमचम नारियल पाउडर में लपेटकर प्लेट में रखते जाएं. चमचम बनकर तैयार है, चमचम को बीच में से काटकर इसके ऊपर पिस्ते डालकर इसे गार्निश कीजिए.

bread chumchum

परोसिये

चाशनी में डूबी मीठी स्वादिष्ट ब्रेड चमचम बनकर तैयार है आप इसे परोसिए और खाइए. ब्रेड चमचम को फ्रिज में रखकर 3-4 दिनों तक आराम से खाया जा सकता है.

सुझाव

  • ब्रेड के किनारों को आप नमकीन बनाने के लिए उपयोग में ला सकते हैं.
  • चीनी को गरम मावा में नहीं डालें क्योंकि गरम मावा में चीनी डालने से मावा पिघल जाता है और स्टफिंग पतली बनकर तैयार होती है.
  • चमचम तलने के लिए घी अच्छा गरम होना चाहिए. घी अगर अच्छा गरम न हो तो चमचम तेल को अपने अंदर सोख लेंगे. चाशनी 1 तार की बनाकर तैयार करनी है. अगर चाशनी पतली होगी तो चमचम नरम बनकर तैयार होंगे और अगर चाशनी गाढी हुई तो चमचम में चाशनी अच्छे से समा नहीं पाएगी और चमचम मीठे नहीं बनेंगे.

Sweet Bread Mawa Roll - चमचम जैसे मीठे ब्रेड रॉल bread-chumchum
Author: 
Recipe type: Sweets
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • ब्रेड - 8
  • मावा - 150 ग्राम
  • चीनी - 1 कप (250 ग्राम)
  • दूध - 1 कप
  • चीनी पाउडर- ¼ कप (40 ग्राम)
  • नारियल बुरादा - ¼ कप
  • इलायची - 4
  • बादाम - 7-8
  • काजू - 7-8
  • पिस्ते - 10-12 (बारीक कटे हुए)
  • आरेंज फूड कलर - ½ पिंच से थोडा़ कम
  • घी - चमचम तलने के लिए
Instructions
  1. ब्रेड के किनारे का गहरे रंग का हिस्सा चाकू की सहायता से काटकर अलग कर लीजिए. सारे ब्रेड के किनारे काट कर हटा लीजिए.
  2. काजू को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट कर तैयार कर लीजिए, बादाम को भी छोटा-छोटा काट लीजिए. इलायची को छीलकर इसके बीजों का पाउडर बना लीजिए.
  3. चाशनी के लिए एक बर्तन ले लीजिए. इसमें चीनी और आधा कप पानी डालकर गैस पर रख दीजिए. चाशनी को चीनी घुलने तक पकने दीजिए. चाशनी को बीच-बीच में चमचे से चलाते रहिए. चाशनी को दो तरीकों से चैक किया जा सकता है. पहले तरीके से चाशनी चैक करने के लिए चमचे से चाशनी को गिराते हुए देखिए कि चाशनी में तार बन रहा है या नहीं. जब आखिरी बूंद चाशनी की चमचे से गिरती है तो वो लम्बे तार को बनाते हुए गिरती है, चाशनी बनकर तैयार है.
  4. अन्य तरीके से चैक करने के लिए चाशनी को किसी प्याली में निकालिए. इसके ठंडी होने के बाद, उंगली और अंगूठे के बीच चिपकाइए, चाशनी में 1 तार बन रहा हो तो, चाशनी बनकर तैयार है, गैस बन्द कर दीजिए. बर्तन को गैस पर से उतार कर जाली स्टैंड पर रख दीजिए.
  5. स्टफिंग के लिए पैन को गैस पर रखकर गरम कीजिए. इसमें क्रम्बल किया हुआ मावा डाल दीजिए और लगातार चलाते हुए मावा के हल्का सा रंग बदलने और अच्छी खुश्बू आने तक इसे भून लीजिए. मावा भूनने के बाद इसमें ½ पिंच फूड कलर डालकर अच्छे से मिक्स कर दीजिए और मावा को प्याले में निकाल लीजिए.
  6. मावा के हल्का सा ठंडा होने पर इसमें कटे हुए कजू-बादाम और इलायची पाउडर डाल कर अच्छे से मिक्स कर दीजिए. मावा के हल्का सा गुनगुना गरम रहने पर इसमें पाउडर चीनी डालकर मिक्स कर दीजिए. स्टफिंग बनकर के तैयार है. स्टफिंग को आठ भागों में छोटे-छोटे गोले बना कर तैयार कर लीजिए.
  7. एक प्लेट मे ½ कप दूध ले लीजिए और एक ब्रेड को दूध में डुबाकर निकाल लीजिए, दूध में भीगी हुई ब्रेड को हथेली पर रखिए. दूसरी हथेली से दबाकर ब्रेड का दूध निकाल दीजिए. इसके ऊपर स्टफिंग रख दीजिए और ब्रेड को मोड़ दीजिए और चारों ओर से अच्छी तरह दबाकर चमचम का आकार देकर स्टफिंग को बन्द कर दीजिए. इस तरह सारी स्टफिंग एक-एक ब्रेड में डालकर तैयार करके चमचम बनाकर प्लेट में लगाकर रख लीजिए.
  8. चमचम के लिए जो चाशनी बनाई है, अगर वो ठंडी होकर जम गई है तो उसे एक बार फिर से गरम करके ले लीजिए.
  9. चमचम तलने के लिए कढ़ाही में तेल डालकर गरम कीजिए, तेल के अच्छा गरम होने पर तैयार रोल उठाइए और गरम तेल में डालिए. रोल को कलछी से पलट-पलट कर गोल्डन ब्राउन होने तक तलिए और आग को मीडियम-हाई ही रखिए.
  10. तले हुए गोले को कलछी पर रखकर कुछ देर कढ़ाही के ऊपर रखिए ताकि अतिरिक्त तेल कढ़ाही में वापस चला जाए. गोले को प्लेट में निकाल लीजिए. इन गरम-गरम गोलों को चाशनी में डाल दीजिए, और थोडी देर बाद प्लेट में निकाल लीजिए. इसी तरह सारे गोले तल कर चाशनी में डाल कर थोडी़ देर बाद निकाल दीजिए.
  11. चमचम को नारियल के पाउडर में लपेटकर प्लेट में रख दीजिए और सारी चमचम नारियल पाउडर में लपेटकर प्लेट में रखते जाएं. चमचम बनकर तैयार है, चमचम को बीच में से काटकर इसके ऊपर पिस्ते डालकर इसे गार्निश कीजिए.

 

मीठे शकरपारे – Shakarpara recipe | Sweet Shakarpare | Shankarpali Sugar Coated

मैदा और चीनी से बनने वाले मीठे शकरपारों के स्वाद से तो भारतीय बच्चा – बच्चा वाकिफ होगा. भारतीय घरों में अक्सर त्यौहार, उत्सव या पर्व पर बनाये जाने वाले शकरपारे इतने स्वादिष्ट होते है कि मानों इनकी मिठास मुँह में घुल सी जाती है. एअर टाइट कन्टेनर में लंबे समय तक बने रहने के कारण आप इनके ज़ायके का आनंद त्यौहार खत्म होने के बाद भी तकरीबन 1-2 महीने तक ले सकते है. आईये बनाते है़ स्वाद से भरपूर मीठे शकरपारे.

Shakarpara recipe | Sweet Shakarpare | Shankarpali Sugar Coated

निर्देश

तैयारी के लिए

मैदा को किसी बर्तन में छान कर निकालिये, 50-60 ग्राम घी डालिये और हाथ से मैदा घी को अच्छी तरह मिलने तक मिला लीजिये. पानी की सहायता से मैदा को पूरी से भी थोड़ा सख्त आटा गूंथिये. आटे को सैट होने के लिये ढककर 15-20 मिनिट के लिये रख दीजिये. इतना आटा गूंथने में 1/2 कप पानी की आवश्यकता पडी़ है.

meethe shakarpare20 मिनिट बाद आटा सैट होकर तैयार है. गुंथे हुये आटे से 2 लोई बना कर तैयार कीजिये. एक लोई को उठाइये और गोल करके 10-11 इंच के व्यास में, 1/4 सेमी. मोटी पूरी बेलिये. चाकू से आधा इंच की दूरी पर काटिये, दूसरी ओर से भी इसी तरह काटकर चौकोर शकर पारे बनाकर तैयार कीजिये.

meethe shakarpareकढ़ाई में घी डालकर गरम कीजिये, गरम घी में जितने शकर पारे आ जाये, डाल दीजिए. शक्कर पारे को धीमी और मीडियम गैस पर गोल्डन ब्राउन होने तक तल लीजिए.

meethe shakarpareशक्कर पारे के सभी तरफ से गोल्डन ब्राउन होने तक तल कर निकाल लीजिये, सारे शकर पारे इसी तरह तल कर तैयार कर लीजिये.

meethe shakarpareदूसरी लोई को भी इसी तरह बेल कर 10-11 इंच के व्यास में, 1/4 सेमी. मोटी पूरी बेलिये. चाकू से आधा इंच की दूरी पर काटिये, दूसरी ओर से भी इसी तरह काटकर चौकोर शकर पारे बनाकर तैयार कीजिये और गरम घी में शक्कर पारे डाल कर धीमी और मीडियम गैस पर गोल्डन ब्राउन होने तक तल कर निकाल लीजिए.

meethe shakarpareपैन में चीनी डालिये और आधा कप पानी मिलाइये, गैस पर उबलने रखिये, चाशनी को चीनी घुलने तक पकने दीजिये, चीनी घुलने के बाद चाशनी को टैस्ट कीजिए. एक बूंद चाशनी को किसी प्याले में टपकाइये और ठंडा होने के बाद चाशनी को उंगली से उठाइये, उंगली और अंगूठे के बीच चिपका कर देखिये, ऊंगली और अंगूठे को अलग करते समय चाशनी में तार निकलने चाहिये, 2 तार की चाशनी बनाकर तैयार कीजिये और गैस बन्द कर दीजिये.

meethe shakarpareतैयार चाशनी में, तले शकर पारे डालिये और शकर पारे अच्छी तरह शक्कर कोट होने तक चमचे से चला कर मिलाते रहिये. 2 मिनिट के बाद शक्कर पारे को चाशनी से कोट हो जाने के बाद निकाल कर प्लेट में रख लीजिए.

meethe shakarpare

परोसिये

स्वाद से भरपूर इन शक्कर पारों को परोसिये और खाइये चीनी कोट होने के बाद शकरपारे अच्छी तरह ठंडा होने के बाद, एअर टाइट कन्टेनर में भर कर रख लीजिये और जब भी आपका मन हो 1 – 2 महिने तक शुगर कोटेड शकर पारे कन्टेनर से निकालिये और खाइये.

meethe shakarpare

मीठे शकरपारे - Shakarpara recipe meethe-shakarpara
Author: 
Recipe type: Sweets
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • मैदा - 200 ग्राम (2 कप)
  • चीनी - 1 कप
  • घी - मैदा में गूंथने के लिए और तलने के लिये
Instructions
  1. मैदा को किसी बर्तन में छान कर निकालिये, 50-60 ग्राम घी डालिये और हाथ से मैदा घी को अच्छी तरह मिलने तक मिला लीजिये. पानी की सहायता से मैदा को पूरी से भी थोड़ा सख्त आटा गूंथिये. आटे को सैट होने के लिये ढककर 15-20 मिनिट के लिये रख दीजिये. इतना आटा गूंथने में ½ कप पानी की आवश्यकता पडी़ है.
  2. मिनिट बाद आटा सैट होकर तैयार है. गुंथे हुये आटे से 2 लोई बना कर तैयार कीजिये. एक लोई को उठाइये और गोल करके 10-11 इंच के व्यास में, ¼ सेमी. मोटी पूरी बेलिये. चाकू से आधा इंच की दूरी पर काटिये, दूसरी ओर से भी इसी तरह काटकर चौकोर शकर पारे बनाकर तैयार कीजिये.
  3. कढ़ाई में घी डालकर गरम कीजिये, गरम घी में जितने शकर पारे आ जाये, डाल दीजिए. शक्कर पारे को धीमी और मीडियम गैस पर गोल्डन ब्राउन होने तक तल लीजिए.
  4. शक्कर पारे के सभी तरफ से गोल्डन ब्राउन होने तक तल कर निकाल लीजिये, सारे शकर पारे इसी तरह तल कर तैयार कर लीजिये.
  5. दूसरी लोई को भी इसी तरह बेल कर 10-11 इंच के व्यास में, ¼ सेमी. मोटी पूरी बेलिये. चाकू से आधा इंच की दूरी पर काटिये, दूसरी ओर से भी इसी तरह काटकर चौकोर शकर पारे बनाकर तैयार कीजिये और गरम घी में शक्कर पारे डाल कर धीमी और मीडियम गैस पर गोल्डन ब्राउन होने तक तल कर निकाल लीजिए.
  6. पैन में चीनी डालिये और आधा कप पानी मिलाइये, गैस पर उबलने रखिये, चाशनी को चीनी घुलने तक पकने दीजिये, चीनी घुलने के बाद चाशनी को टैस्ट कीजिए. एक बूंद चाशनी को किसी प्याले में टपकाइये और ठंडा होने के बाद चाशनी को उंगली से उठाइये, उंगली और अंगूठे के बीच चिपका कर देखिये, ऊंगली और अंगूठे को अलग करते समय चाशनी में तार निकलने चाहिये, 2 तार की चाशनी बनाकर तैयार कीजिये और गैस बन्द कर दीजिये.
  7. तैयार चाशनी में, तले शकर पारे डालिये और शकर पारे अच्छी तरह शक्कर कोट होने तक चमचे से चला कर मिलाते रहिये. 2 मिनिट के बाद शक्कर पारे को चाशनी से कोट हो जाने के बाद निकाल कर प्लेट में रख लीजिए.
  8. स्वाद से भरपूर इन शक्कर पारों को परोसिये और खाइये चीनी कोट होने के बाद शकरपारे अच्छी तरह ठंडा होने के बाद, एअर टाइट कन्टेनर में भर कर रख लीजिये और जब भी आपका मन हो 1 - 2 महिने तक शुगर कोटेड शकर पारे कन्टेनर से निकालिये और खाइये.

 

Annkoot | अन्नकूट सब्जी | Special Mixed Vegetable Annakoot । Gad Ki Sabzi

गोवर्धन की पूजा में मुख्य रूप से अन्नकूट बनाया जाता है. यह भगवान को लगने वाला महत्वपूर्ण भोग होता है.  यह प्रसाद के तौर् पर उत्तर प्रदेश में गोवर्धन पूजा के दिन लोग इसे विशेष रूप से बनाते हैं.  अन्नकूट कई सारी सब्जियों के मिश्रण से तैयार होता है. इस मौसम में जो भी नई सब्जी आती है उन्हें पहले अन्नकूट बनाकर ईश्वर को भोग लगाया जाता है और फिर प्रसाद के रूप में खाया जाता है. अन्नकूट का स्वाद बहुत ही लाजवाब होता है.

Annkoot | Special Mixed Vegetable Annakoot । Gad Ki Sabzi

तैयारी के लिए

फ्रेंच बीन्स, अरबी, मूली के पत्ते, मूली, गाजर, तोरई, परवल, सेम, शिमला मिर्च, फूल गोभी, लौकी, पालक, ग्वार फली, करेला, कद्दू, पत्ता गोभी, सेंगरी, टिंडा, भिन्डी, आलू, बैगन, कच्चा केला और टमाटर ले लीजिए.

annakoot सभी सब्जियों को अच्छे से धोकर साफ करके काट कर ले लीजिए.

annakootबैंगन, आलू और केला को भी काट कर पानी भरे प्याले में ही डाल कर रखें.

annakoot

बनाने की विधि

सब्जी बनाने के लिए पैन में 2 टेबल स्पून डाल कर गरम होने के लिए गैस पर रख दीजिए. तेल गरम होने पर इसमें 1 छोटी चम्मच जीरा, 1 पिंच हींग, 1 छोटी चम्मच हल्दी पाउडर, थोडी़ सी बारीक कटी हरी मिर्च, 1 छोटी चम्मच हरा धनिया, 1 छोटी चम्मच अदरक का पेस्ट डाल कर मसाले को हल्का सा भून लीजिए.

annakootमसाले में कटी हुई सब्जियां डाल कर मिक्स कर दीजिए. सब्जियों को 2-3 मिनिट लगातार चलाते हुए भून लीजिए.

annakootसब्जी में 1 छोटी चम्मच नमक और ½ छोटी चम्मच लाल मिर्च डाल कर अच्छे से मिलाएं सब्जी में ½ कप पानी डाल दीजिए और सब्जी को ढक कर मध्यम आंच पर 5-6 मिनिट पकने दीजिए.

annakootटमाटर को बारीक काट लीजिए.अब एक दूसरा पैन लीजिए और इसमें 3-4 टेबल स्पून तेल गरम होने के लिए रख दीजिए. गरम तेल में जीरा, हल्दी पाउडर, बचा हुआ अदरक पेस्ट, बारीक कटी हरी मिर्च और धनिया पाउडर डाल कर सभी मसालों को हल्का सा भून लीजिए.

annakootमसाले में बारीक कटे हुए टमाटर डाल दीजिए साथ में लाल मिर्च पाउडर और नमक डालकर मसाले को तब तक भूनें जब तक की टमाटर अच्छे से मैश न हो जाएं और मसाले पर से तल अलग होने लगे.

annakootचैक करें सब्जी अभी पकी नहीं है, अगर सब्जी में पानी सूख गया हो तो ¼ कप पानी डाल दीजिए और सब्जी को 5-6 मिनिट ढक कर पकने दीजिए.

annakootमसाला बन कर तैयार है. गैस बंद कर दीजिए. इधर सब्जी को भी चैक कर लीजिए. आलू अच्छे से दब रहे हैं सब्जी पक कर तैयार है. सब्जी को पकने में लगभग 30 मिनिट का समय लगा है. अब सब्जी में भूना हुआ मसाला डाल कर मिला दीजिए.

annakootसब्जी में गरम मसाला और बारीक कटा हुआ हरा धनिया डाल कर सभी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए. सब्जी थोड़ी सूखी सी लगे तो इसमें ¼ कप पानी डाल कर मिला दीजिए. सब्जी को ढक कर धीमी आग पर 2-3 मिनिट पकने दीजिए.

annakoot

परोसिये

सब्जी बनकर तैयार है गैस बंद कर दीजिए. सब्जी को प्याले में निकाल लीजिए. सब्जी को हरे धनिये से गार्निश कीजिए. गरमा गरम अन्नकूट की सब्जी को पूरी के साथ परोसिये यह स्वाद में बहुत लाजवाब लगती है. इतनी सब्जी परिवार के 8-10 सदस्यों के लिए पर्याप्त होती है.

annakoot

Annkoot | अन्नकूट सब्जी annakoot
Author: 
Recipe type: Main Course
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • फ्रेंच बीन्स - 8-10
  • अरबी - 1
  • मूली के पत्ते - 10-12
  • मूली - 1
  • गाजर - 1
  • तोरई - 1
  • परवल - 2
  • सेम - 4-5
  • शिमला मिर्च - 1
  • फूल गोभी - 1 फूल (60-70 ग्राम)
  • लौकी - 1 टुकड़ा (100 ग्राम)
  • पालक - 50 ग्राम
  • ग्वार फली - 12-15 (50 ग्राम)
  • करेला - 1 (50 ग्राम)
  • कद्दू - 1 टुकडा (100 ग्राम)
  • पत्ता गोभी - 1 टुकडा (50 ग्राम)
  • सेंगरी - 50 ग्राम
  • टिंडा - 3 (50 ग्राम)
  • भिन्डी - 4-5 (40-50 ग्राम)
  • आलू - 3 (300 ग्राम)
  • बैगन - 2 (100 ग्राम)
  • कच्चा केला - 1 (100 ग्राम)
  • टमाटर - 5 (500 ग्राम)
  • तेल - 6-7 टेबल स्पून
  • हरा धनिया - 6-7 टेबल स्पून (बारीक कटा हुआ )
  • हरी मिर्च - 5-6 (बारीक कटी हुई)
  • अदरक पेस्ट - 3 छोटी चम्मच
  • गरम मसाला - ½ छोटी चम्मच
  • हींग - 1 पिंच
  • जीरा - 2 छोटी चम्मच
  • हल्दी पाउडर - 2 छोटी चम्मच
  • हरा धनिया - 4 छोटी चम्मच
  • नमक - 2 छोटी चम्मच या स्वादानुसार
  • लाल मिर्च पाउडर - 1 छोटी चम्मच
  • गरम मसाला - 1 छोटी चम्मच
Instructions
  1. फ्रेंच बीन्स, अरबी, मूली के पत्ते, मूली, गाजर, तोरई, परवल, सेम, शिमला मिर्च, फूल गोभी, लौकी, पालक, ग्वार फली, करेला, कद्दू, पत्ता गोभी, सेंगरी, टिंडा, भिन्डी, आलू, बैगन, कच्चा केला और टमाटर ले लीजिए.
  2. सभी सब्जियों को अच्छे से धोकर साफ करके काट कर ले लीजिए.
  3. बैंगन, आलू और केला को भी काट कर पानी भरे प्याले में ही डाल कर रखें.
  4. सब्जी बनाने के लिए पैन में 2 टेबल स्पून डाल कर गरम होने के लिए गैस पर रख दीजिए. तेल गरम होने पर इसमें 1 छोटी चम्मच जीरा, 1 पिंच हींग, 1 छोटी चम्मच हल्दी पाउडर, थोडी़ सी बारीक कटी हरी मिर्च, 1 छोटी चम्मच हरा धनिया, 1 छोटी चम्मच अदरक का पेस्ट डाल कर मसाले को हल्का सा भून लीजिए.
  5. मसाले में कटी हुई सब्जियां डाल कर मिक्स कर दीजिए. सब्जियों को 2-3 मिनिट लगातार चलाते हुए भून लीजिए.
  6. सब्जी में 1 छोटी चम्मच नमक और ½ छोटी चम्मच लाल मिर्च डाल कर अच्छे से मिलाएं सब्जी में ½ कप पानी डाल दीजिए और सब्जी को ढक कर मध्यम आंच पर 5-6 मिनिट पकने दीजिए.
  7. टमाटर को बारीक काट लीजिए.अब एक दूसरा पैन लीजिए और इसमें 3-4 टेबल स्पून तेल गरम होने के लिए रख दीजिए. गरम तेल में जीरा, हल्दी पाउडर, बचा हुआ अदरक पेस्ट, बारीक कटी हरी मिर्च और धनिया पाउडर डाल कर सभी मसालों को हल्का सा भून लीजिए.
  8. मसाले में बारीक कटे हुए टमाटर डाल दीजिए साथ में लाल मिर्च पाउडर और नमक डालकर मसाले को तब तक भूनें जब तक की टमाटर अच्छे से मैश न हो जाएं और मसाले पर से तल अलग होने लगे.
  9. चैक करें सब्जी अभी पकी नहीं है, अगर सब्जी में पानी सूख गया हो तो ¼ कप पानी डाल दीजिए और सब्जी को 5-6 मिनिट ढक कर पकने दीजिए.
  10. मसाला बन कर तैयार है. गैस बंद कर दीजिए. इधर सब्जी को भी चैक कर लीजिए. आलू अच्छे से दब रहे हैं सब्जी पक कर तैयार है. सब्जी को पकने में लगभग 30 मिनिट का समय लगा है. अब सब्जी में भूना हुआ मसाला डाल कर मिला दीजिए.
  11. सब्जी में गरम मसाला और बारीक कटा हुआ हरा धनिया डाल कर सभी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए. सब्जी थोड़ी सूखी सी लगे तो इसमें ¼ कप पानी डाल कर मिला दीजिए. सब्जी को ढक कर धीमी आग पर 2-3 मिनिट पकने दीजिए.
  12. सब्जी बनकर तैयार है गैस बंद कर दीजिए. सब्जी को प्याले में निकाल लीजिए. सब्जी को हरे धनिये से गार्निश कीजिए. गरमा गरम अन्नकूट की सब्जी को पूरी के साथ परोसिये यह स्वाद में बहुत लाजवाब लगती है. इतनी सब्जी परिवार के 8-10 सदस्यों के लिए पर्याप्त होती है.

 

Kanji vada | दीपावली के लिये पाचक कांजी बड़ा | Rajasthani Kanji Wada

कांजी वड़ा राजस्थान और उत्तर प्रदेश का पारंपरिक व्यंजन है. जब कभी त्यौहारों के मौसम में तला भुना और मीठा खाकर पेट खराब हो जाता है, तब कांजी वड़ा खासतौर पर बनाकर पिया जाता है, यह पेट के पाचन तंत्र को सही करता है, साथ ही शरीर को ठंडक भी देता है. खट्टी-खट्टी कांजी आपके पेट को सही करने के साथ-साथ आपके मुंह का ज़ायका भी बढ़िया कर देती है. इसका सेवन अमूमन गर्मियों के दिनों में किया जाता है.

Kanji vada | दीपावली के लिये पाचक कांजी बड़ा | Rajasthani Kanji Wada

निर्देश

तैयारी के लिए

कांच या फूड ग्रेड प्लास्टिक का कन्टेनर लीजिए. इसे पानी से अच्छे से धोकर पूरी तरह सुखा लीजिए.

kanji vadaमूंगदाल को पानी से अच्छे से धोइए और 2 से 3 घंटे पानी में भिगोकर रख दीजिए.

kanji vada

बनाने की विधि

जार में पिसी हुई राई, हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर, हींग, नमक और सरसों का तेल डाल दीजिए.

kanji vadaजार में थोड़ा सा पानी डाल दीजिए और मसालों को 2 से 3 मिनिट तक मिक्स कर लीजिए. फिर इसमें सारा पानी डाल दीजिए और अच्छे से मिक्स कर दीजिए.

kanji vadaजार का ढक्कन लगा दीजिए और इसे किसी गरम जगह पर रख दीजिए तथा रोजाना चमचे से चला दीजिए. 3 दिन बाद, कांजी अच्छी तरह से खट्टी होकर तैयार हो जाएगी.

kanji vadaवड़े बनाने के लिए भीगी हुई मूंग की दाल लीजिए. इसमें से अतिरिक्त पानी निकाल दीजिए. दाल को मिक्सर जार में डालिए और इसे हल्का दरदरा पीस लीजिए. दाल में पानी मत डालिए.

kanji vadaपिसी हुई दाल को एक प्याले में निकाल लीजिए. इसमें नमक और हींग डाल दीजिए.

kanji vadaदाल को फूलने तक पूरे 4 से 5 मिनिट अच्छी तरह से फैंट लीजिए.

kanji vadaपैन गरम कीजिए और इसमें तेल डाल दीजिए. तेल के गरम होने पर इसमें एक वड़ा डालकर चैक कर लीजिए. वड़ा सिक रहा है यानिकि तेल अच्छा गरम है.

kanji vadaजितने वड़े कढ़ाही में बन जाएं, उतने वड़े तेल में डाल दीजिए. वड़ों को कलछी से पलट-पलटकर गोल्डन ब्राउन होने तक तल लीजिए.

kanji vadaवड़े तैयार हैं. कलछी को कढ़ाही के किनारे पर पकड़िए ताकि वड़ों में से तेल कढ़ाही में ही वापस चला जाए. फिर, वड़ों को निकालकर प्लेट में रख लीजिए.

kanji vadaइन वड़ों को कांजी में 30 मिनिट डालकर रख दीजिए ताकि ये कांजी सोख लें. कांजी में वड़े डालने के बाद 1 बार इन्हें चला लीजिए. एक बार के वड़े तलने में 5 से 6 मिनिट लग जाते हैं.

kanji vada

परोसिए

वड़े फूल गए हैं और तैयार हैं. स्वाद में मज़ेदार कांजी वड़ा सर्व होने के लिए तैयार है. एक गिलास में 3 से 4 वड़े डालिए और ऊपर से कांजी डाल दीजिए.

सुझाव

  • आप अतिरिक्त वड़ों को चाट या स्नैक्स के रूप में खा सकते हैं.
  • अगर आप आ रो का पानी इस्तेमाल नही कर रहे हैं, तो पानी को पहले उबालिए, ठंडा कीजिए और फिर ऊपर दी गई विधि के अनुसार वड़े बना लीजिए.
  • अगर आपने वड़े ना बनाएं हो, तो कांजी को बूंदी के साथ भी सर्व कर सकते हैं. कांजी में 1 से 2 छोटी चम्मच बूंदी डालिए और सर्व कीजिए.

Kanji vada | दीपावली के लिये पाचक कांजी बड़ा kanji-vada
Author: 
Recipe type: Miscellaneous
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • कांजी के लिए
  • आ रो पानी- 2 लीटर
  • राई- 4 टेबल स्पून (बारीक पिसी हुई)
  • हल्दी पाउडर- 1 छोटी चम्मच
  • लाल मिर्च पाउडर- 1 छोटी चम्मच
  • हींग- ½ पिंच
  • सरसों का तेल- 2 छोटी चम्मच
  • नमक- 2 छोटी चम्मच या स्वादानुसार
  • वड़ों के लिए
  • मूंग की दाल- 1 कप (180 ग्राम) (भीगी हुई)
  • नमक- ½ छोटी चम्मच या स्वादानुसार
  • हींग- ½ पिंच
  • तेल- तलने के लिए
Instructions
  1. कांच या फूड ग्रेड प्लास्टिक का कन्टेनर लीजिए. इसे पानी से अच्छे से धोकर पूरी तरह सुखा लीजिए.
  2. मूंगदाल को पानी से अच्छे से धोइए और 2 से 3 घंटे पानी में भिगोकर रख दीजिए.
  3. जार में पिसी हुई राई, हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर, हींग, नमक और सरसों का तेल डाल दीजिए.
  4. जार में थोड़ा सा पानी डाल दीजिए और मसालों को 2 से 3 मिनिट तक मिक्स कर लीजिए. फिर इसमें सारा पानी डाल दीजिए और अच्छे से मिक्स कर दीजिए.
  5. जार का ढक्कन लगा दीजिए और इसे किसी गरम जगह पर रख दीजिए तथा रोजाना चमचे से चला दीजिए. 3 दिन बाद, कांजी अच्छी तरह से खट्टी होकर तैयार हो जाएगी.
  6. वड़े बनाने के लिए भीगी हुई मूंग की दाल लीजिए. इसमें से अतिरिक्त पानी निकाल दीजिए. दाल को मिक्सर जार में डालिए और इसे हल्का दरदरा पीस लीजिए. दाल में पानी मत डालिए.
  7. पिसी हुई दाल को एक प्याले में निकाल लीजिए. इसमें नमक और हींग डाल दीजिए.
  8. दाल को फूलने तक पूरे 4 से 5 मिनिट अच्छी तरह से फैंट लीजिए.
  9. पैन गरम कीजिए और इसमें तेल डाल दीजिए. तेल के गरम होने पर इसमें एक वड़ा डालकर चैक कर लीजिए. वड़ा सिक रहा है यानिकि तेल अच्छा गरम है.
  10. जितने वड़े कढ़ाही में बन जाएं, उतने वड़े तेल में डाल दीजिए. वड़ों को कलछी से पलट-पलटकर गोल्डन ब्राउन होने तक तल लीजिए.
  11. वड़े तैयार हैं. कलछी को कढ़ाही के किनारे पर पकड़िए ताकि वड़ों में से तेल कढ़ाही में ही वापस चला जाए. फिर, वड़ों को निकालकर प्लेट में रख लीजिए.
  12. इन वड़ों को कांजी में 30 मिनिट डालकर रख दीजिए ताकि ये कांजी सोख लें. कांजी में वड़े डालने के बाद 1 बार इन्हें चला लीजिए. एक बार के वड़े तलने में 5 से 6 मिनिट लग जाते हैं.

 

 

Dry Mini Kachory | उरद दाल की मिनी कचौरी । Marwari Khasta Mini Kachori

दाल की स्टफिंग से तैयार खस्ता मिनी कचौरी, किसी भी समय के लिए परफेक्ट स्नैक्स है. कचौरी को बहुत आस‌ानी स‌े बनाकर तैयार किया जा स‌कता है. उरद  दाल कचौड़ी खाने में स्वादिष्ट होती है. कचौरी को बनाने के लिए उड़द की दाल को पहले स‌े भिगो कर रखना पड़ता है और उसके बाद मिक्सर में पीस कर पेस्ट बना लिया जाता है. पेस्ट को भूनकर स्टफिंग तैयार कर लीजिेए. स्टफिंग को लोई में भरकर खस्ता कचौरी बना लीजिए. आप एक बार इसे बनाकर स्टोर करके रख लीजिए और पूरे आधे माह तक मज़े से खाइए.

Dry Mini Kachory | उरद दाल की मिनी कचौरी । Marwari Khasta Mini Kachori

विधि

तैयारी के लिए

1/4 कप उड़द की दाल को 2 घंटे के लिए साफ पानी में भिगो दीजिए.

urad dal mini kachori

बनाने की विधि

एक बड़े प्याले में 2 कप मैदा निकाल लीजिए और इसमें ½ छोटी चम्मच नमक, 1 पिंच बेकिंग सोडा और ¼ कप तेल डालकर अच्छी तरह मिला लीजिये. फ्रिज के ठंडे पानी की सहायता से बिना मसले एकदम नरम आटा गूंथ लीजिये. इतना आटा गूंथने में ½ कप से थोडा़ सा ज्यादा पानी लगेगा. आटे को ढककर 15-20 मिनिट के लिये रख दीजिये. आटा सैट होकर तैयार जाएगा.

urad dal mini kachoriउड़द दाल में से अतिरिक्त पानी हटा दीजिए और दाल को मिक्सर जार में डाल कर बिना पानी डाले दरदरा पीसकर तैयार कर लीजिए.

urad dal mini kachoriपैन को गैस पर रखकर गरम कीजिये. इसमें 1 टेबल स्पून तेल डालिये. तेल गरम होने पर इसमें दरदरा कुटा जीरा डाल कर हल्का सा सा भून लीजिए और गैस धीमा कर दीजिए ताकि मसाले जलें नहीं. इसके बाद इसमें हींग, धनिया पाउडर डालकर मसालों को हल्का सा भून लीजिए. मसाले में दरदरी पिसी दाल डालकर मिक्स कीजिए. दाल को लगातार चलाते हुए भून लीजिए.

urad dal mini kachoriदाल में 1/2 छोटी चम्मच नमक, 1/4 छोटी चम्मच अदरक पाउडर, 1/4 छोटी चम्मच गरम मसाला, 1 छोटी चम्मच सौंफ पाउडर और 1/4 छोटी चम्मच अमचूर डालकर सारी चीजों को अच्छे से मिक्स करते हुए भून लीजिए. दाल को अच्छे से नमी सूख जाने तक भूनिए. दाल भुन जाने पर गैस बंद कर दीजिए और पैन को गैस पर से उतारकर जाली स्टैंड पर रख दीजिए. इसके बाद, इसमें लाल मिर्च पाउडर डालकर अच्छे से मिक्स कर दीजिए. स्टफिंग बनकर तैयार है, इसे प्लेट में निकल लीजिए ताकि यह जल्दी से ठंडी हो जाए. दाल को भूनने में लगभग 12 मिनिट का समय लग जाता है.

urad dal mini kachori20 मिनिट बाद आटा सैट होकर तैयार है. आटे को दो भागों में बांट लीजिए और इसे लम्बाई में रोल करते हुए छोटी-छोटी लोईयां तोड़ लीजिए. हाथ पर थोडा़ सा तेल लगाकर हाथ चिकना कर लीजिए ताकि आटा हाथों पर न चिपके.

urad dal mini kachoriएक आटे की लोई उठाएं गोल कीजिए और हथेली पर रखकर थोड़ा सा चपटा कर लीजिए. लोई को दोनों हाथों की उंगलियों और अंगूठे की मदद स‌े प्याली का आकार दे दीजिए. लोई के ऊपर 1/2 चम्मच स्टफिंग रख दीजिए. इसके बाद आटे को चारों ओर उठाते हुए स्टफिंग को बंद कर दीजिए. लोई को गोल करके प्लेट में रख दीजिए. इसी तरह स‌ारी कचौरियों को बनाकर प्लेट में रख लीजिए.

urad dal mini kachoriकढ़ाही में तेल डालकर गरम कीजिए. कचौरी तलने के लिए तेल एकदम कम गरम होना चाहिए. तेल को चैक करने के लिए थोडा़ सा आटा तेल में डालिए, अगर हल्के से बबल आ रहे हैं तो तेल एकदम सही गरम हुआ है. गैस धीमा ही रखिए.

urad dal mini kachoriतेल में कचौरियों को तलने के लिए डाल दीजिए. कचौरियां एक तरफ स‌े स‌िकने पर तेल के उपर आ जाती हैं. कचौरियों को चारों ओर से गोल्डन ब्राउन होने तक तलकर तैयार कर लीजिए.

urad dal mini kachoriतली हुई कचौरी को कलछी की मदद स‌े कढ़ाही के ऊपर रोककर रख लीजिए ताकि अतिरिक्त तेल कचौरी स‌े निकल कर कढ़ाही में वापस चला जाय. कचौरी को प्लेट में निकालकर रख लीजिए. बची हुई कचौरी को इसी तरह तलकर तैयार कर लीजिए. इतने आटे से लगभग 28 कचौरियां बनकर तैयार हो जाती हैं और एक बार की कचौरी तलने में 15-16 मिनिट लग जाते हैं. उड़द दाल की खस्ता कचौरियां बनकर तैयार हैं.

urad dal mini kachori

परोसिये

गरमा गरम खस्ता कचौरियों के पूरी तरह से ठंडा हो जाने पर किसी कंटेनर में भर कर रख दीजिए और 15 से 20 दिन तक जब आप का मन हो इसे कंटेनर से निकालकर खाएं.

सुझाव

  • दाल को नॉन स्टिक पैन में भूनेंगे तो दाल बडी़ आसानी से भुनकर तैयार हो जाती है.
  • स्टफिंग भरने के बाद कचौरी को चारों तरफ स‌े अच्छी तरह बंद कर लीजिए, ताकि कचौरी तलते स‌मय कढ़ाही में फैले नहीं.
  • दाल को अच्छे से ड्राय होने तक भूनना होता है तब ही कचौरी लम्बे समय तक खराब नहीं होती है. अगर दाल कम सिकी रहेगी, तो दाल खराब हो सकती है.

Dry Mini Kachory | उरद दाल की मिनी कचौरी urad-dal-mini-kachori
Author: 
Recipe type: Snacks
Cuisine: Indian
Prep time: 
Cook time: 
Total time: 
Serves: 4
 
Ingredients
  • मैदा - 2 कप (250 ग्राम)
  • तेल - ¼ कप (60 ग्राम)
  • नमक - ½ छोटी चम्मच या स्वादानुसार
  • बेकिंग सोडा - 1 पिंच
  • तेल - तलने के लिए
  • भीगी उड़द दाल - ¼ कप (50 ग्राम)
  • जीरा - ½ छोटी चम्मच (दरदरा कुटा हुआ)
  • सौंफ पाउडर - 1 छोटी चम्मच
  • धनिया पाउडर - 1 छोटी चम्मच
  • हींग - ½ पिंच
  • लाल मिर्च पाउडर - ¼ छोटी चम्मच
  • गरम मसाला - ¼ छोटी चम्मच
  • अदरक पाउडर - ¼ छोटी चम्मच
  • अमचूर- ¼ छोटी चम्मच
  • नमक - ½ छोटी चम्मच या स्वादानुसार
Instructions
  1. /4 कप उड़द की दाल को 2 घंटे के लिए साफ पानी में भिगो दीजिए.
  2. एक बड़े प्याले में 2 कप मैदा निकाल लीजिए और इसमें ½ छोटी चम्मच नमक, 1 पिंच बेकिंग सोडा और ¼ कप तेल डालकर अच्छी तरह मिला लीजिये. फ्रिज के ठंडे पानी की सहायता से बिना मसले एकदम नरम आटा गूंथ लीजिये. इतना आटा गूंथने में ½ कप से थोडा़ सा ज्यादा पानी लगेगा. आटे को ढककर 15-20 मिनिट के लिये रख दीजिये. आटा सैट होकर तैयार जाएगा.
  3. उड़द दाल में से अतिरिक्त पानी हटा दीजिए और दाल को मिक्सर जार में डाल कर बिना पानी डाले दरदरा पीसकर तैयार कर लीजिए.
  4. पैन को गैस पर रखकर गरम कीजिये. इसमें 1 टेबल स्पून तेल डालिये. तेल गरम होने पर इसमें दरदरा कुटा जीरा डाल कर हल्का सा सा भून लीजिए और गैस धीमा कर दीजिए ताकि मसाले जलें नहीं. इसके बाद इसमें हींग, धनिया पाउडर डालकर मसालों को हल्का सा भून लीजिए. मसाले में दरदरी पिसी दाल डालकर मिक्स कीजिए. दाल को लगातार चलाते हुए भून लीजिए.
  5. दाल में ½ छोटी चम्मच नमक, ¼ छोटी चम्मच अदरक पाउडर, ¼ छोटी चम्मच गरम मसाला, 1 छोटी चम्मच सौंफ पाउडर और ¼ छोटी चम्मच अमचूर डालकर सारी चीजों को अच्छे से मिक्स करते हुए भून लीजिए. दाल को अच्छे से नमी सूख जाने तक भूनिए. दाल भुन जाने पर गैस बंद कर दीजिए और पैन को गैस पर से उतारकर जाली स्टैंड पर रख दीजिए. इसके बाद, इसमें लाल मिर्च पाउडर डालकर अच्छे से मिक्स कर दीजिए. स्टफिंग बनकर तैयार है, इसे प्लेट में निकल लीजिए ताकि यह जल्दी से ठंडी हो जाए. दाल को भूनने में लगभग 12 मिनिट का समय लग जाता है.
  6. मिनिट बाद आटा सैट होकर तैयार है. आटे को दो भागों में बांट लीजिए और इसे लम्बाई में रोल करते हुए छोटी-छोटी लोईयां तोड़ लीजिए. हाथ पर थोडा़ सा तेल लगाकर हाथ चिकना कर लीजिए ताकि आटा हाथों पर न चिपके.
  7. एक आटे की लोई उठाएं गोल कीजिए और हथेली पर रखकर थोड़ा सा चपटा कर लीजिए. लोई को दोनों हाथों की उंगलियों और अंगूठे की मदद स‌े प्याली का आकार दे दीजिए. लोई के ऊपर ½ चम्मच स्टफिंग रख दीजिए. इसके बाद आटे को चारों ओर उठाते हुए स्टफिंग को बंद कर दीजिए. लोई को गोल करके प्लेट में रख दीजिए. इसी तरह स‌ारी कचौरियों को बनाकर प्लेट में रख लीजिए.
  8. कढ़ाही में तेल डालकर गरम कीजिए. कचौरी तलने के लिए तेल एकदम कम गरम होना चाहिए. तेल को चैक करने के लिए थोडा़ सा आटा तेल में डालिए, अगर हल्के से बबल आ रहे हैं तो तेल एकदम सही गरम हुआ है. गैस धीमा ही रखिए.
  9. तेल में कचौरियों को तलने के लिए डाल दीजिए. कचौरियां एक तरफ स‌े स‌िकने पर तेल के उपर आ जाती हैं. कचौरियों को चारों ओर से गोल्डन ब्राउन होने तक तलकर तैयार कर लीजिए.
  10. तली हुई कचौरी को कलछी की मदद स‌े कढ़ाही के ऊपर रोककर रख लीजिए ताकि अतिरिक्त तेल कचौरी स‌े निकल कर कढ़ाही में वापस चला जाय. कचौरी को प्लेट में निकालकर रख लीजिए. बची हुई कचौरी को इसी तरह तलकर तैयार कर लीजिए. इतने आटे से लगभग 28 कचौरियां बनकर तैयार हो जाती हैं और एक बार की कचौरी तलने में 15-16 मिनिट लग जाते हैं. उड़द दाल की खस्ता कचौरियां बनकर तैयार हैं.